5 दिन से लापता बच्चे की मिली लाश, शव 2 से 3 दिन पुरानी, हत्या या दुर्घटना..? जांच में जुटी पुलिस

जांजगीर। पिछले 5 दिनों से लापता ढाई साल के बच्चे की लाश घर से महज 500 मीटर दूर कुंए में मिली है। लाश 2 से 3 दिन पुरानी बताई जा रही है। जिस जगह पर बच्चे की लाश मिली है वहां उसकी तलाश पहले की जा चुकी थी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

मालखरौदा थाना क्षेत्र में ग्राम सिपत से मंगलवार की दोपहर घर के बाहर से एक ढाई साल के मासूम बच्चे आयुष के लापता होने की जानकारी आई थी। सिपत निवासी अक्षय साहू का ढाई साल का बेटा आयुष घर के बाहर खेलने के लिए बाहर चला गया था। इसके बाद से उसका कुछ पता ही नहीं चला। परिजनों ने उसकी काफी तलाश भी की लेकिन कोई खास सफलता नही मिल सकी। जिसके बाद पीड़ित परिजनों ने पुलिस में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। सूचना मिलने पर पुलिस भी लापता आयुष की तलाश करने का प्रयास कर रही थी। बच्चे का सुराग देने वाले के लिए बकायदा पुलिस ने 15 ने हजार रूपये का इनाम भी रखा था।
उधर बच्चे के लापता होने के बाद परिजनों ने आयुष अपहरण किये जाने की भी आशंका जताई थी। पुलिस इस दिशा में भी जांच कर रही थी। जांजगीर एसपी अभिषेक पल्लव ने आयुष की तलाश के लिए पुलिस की टीम तैयार की थी जो अलग – अलग जगह जाकर खोजबीन कर रही थी। साथ ही आस – पास में एक्टिव मोबाइल फोन नंबर्स की जांच भी की जा रही थी। इसके बाद कुछ दिन पहले ही पुलिस ने इनाम की घोषणा भी कर दी थी। मगर बच्चे का कुछ पता नहीं चला। पुलिस बच्चें का सुराग जुटा पाती इसी बीच रविवार सुबह बच्चे का शव बड़े सिपत गांव में ही घर से महज 500 मीटर दूर एक बिना बाउंड्री वाले कुएं में मिला है। बताया जा रहा है कि जिस जगह पर बच्चे का शव मिला है वहां पहले परिजन और गांव वाले तलाश कर चुके थे। तब वहां न तो शव मिला था और न ही जीवित बच्चा मिला था। इससे आशंका जाहिर की जा रही है कि बच्चे के हत्या कहीं और करके यहां फेंक दी गई है।
सुबह गांव के ही एक शख्स ने ऊपर पानी में तैरती सड़ी गली लाश देखी थी। जिसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच की तो शव आयुष का निकला है। लापता आयुष की सड़ी गली लाश मिलने के बाद गांव में मातम पसर गया है। पुलिस बच्चे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस फिलहाल इस पूरे मामले को अपहरण और हत्या के एंगल में तफ्तीश कर रही है।

Author Profile

नीरजधर दीवान
नीरजधर दीवान
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments