विधायक निधि से स्वीकृत कार्यों की समीक्षा, विधायक मौन_कमिश्नर नाराज, प्रत्येक विधायक को मिलता है हर साल चार करोड़ रुपए

बिलासपुर। विधायक निधि की राशि से स्वीकृत कामों को लेकर विधायक कितने चिंतित है ये तो विधायक जाने। लेकिन आज संभागायुक्त डॉ संजय अलंग ने स्वीकृत कार्यों की समीक्षा की और कार्यों के अपूर्ण रहने और सैकड़ों काम शुरू नही करा पाने पर नाराजगी जाहिर की। बताया जा रहा है की ज्यादातर माननीय काम स्वीकृत करने के बाद भूल जाते। उन्ही कामों को लेकर वो गंभीर रहते है जिनके ठेकेदार उनके संपर्क में रहते है।

कमिश्नर डॉ संजय अलंग ने आज विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास योजना के तहत स्वीकृत कामों की प्रगति की समीक्षा की। डॉ. अलंग ने स्वीकृति के बाद भी बड़ी संख्या में अब तक काम शुरू नहीं किए जाने पर नाराज़गी जाहिर की। उन्होंने कहा कि यदि कोई काम विवाद अथवा अन्य कोई कारण से प्रारंभ किया जाना संभव नहीं है, तो उसे निरस्त कर संबंधित विधायक की अनुशंसा से दूसरा काम लिया जाए। किसी भी हालत में स्वीकृत हो चुके कार्यों को लंबित नहीं रखा जाए। बैठक में डिप्टी कमिश्नर अर्चना मिश्रा सहित संभाग के सभी जिलों के योजना एवं सांख्यिकी अधिकारी उपस्थित थे।
उल्लेखनीय है कि बिलासपुर संभाग के अंतर्गत शामिल 6 जिलों में 24 विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। वित्तीय वर्ष 2022-23 से योजना के अंतर्गत एक साल में विकास कार्यों के लिए 4 करोड़ की राशि प्राप्त होती है। इसके पहले हर साल 2 करोड़ रुपए मिला करती थी। बैठक में बताया गया की वर्ष 2018 -19 से लेकर 2022-23 तक चार सालों में 205 करोड़ रुपए की लागत से 5261 काम स्वीकृत किए गए। इनमें से 3526 काम पूर्ण, 898 प्रगति में और 808 काम अभी तक शुरु नहीं हो पाए हैं। आमतौर पर सिसी रोड, अतिरिक्त कमरा, सामुदायिक भवन, रंगमंच जैसे छोटे -छोटे काम स्थानीय विधायकों की सिफारिश पर मंजूर किए जाते हैं। डॉ.अलंग ने स्वीकृत कामों को तेज गति से पूर्ण करने को कहा है। उन्होंने जनपद पंचायत स्तर पर कामों की समीक्षा कर जानकारी अपडेट करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने विधानसभावार विधायक निधि योजना के अंतर्गत स्वीकृत, पूर्ण, प्रगतिरत और अप्रारंभ कामों की समीक्षा की है।
पटेल/

Author Profile

नीरजधर दीवान
नीरजधर दीवान
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments