कांग्रेस नेता की हत्या, पुलिस ने किया खुलासा, 4 नाबालिग के साथ एक युवक गिरफ्तार

रायगढ़। कांग्रेस नेता मदन मित्तल दंपती की मर्डर मिस्ट्री का पुलिस ने खुलासा किया है। चोरी की नियत से घुसे 6 लड़कों ने दंपती की तकिया से मुंह दबाकर हत्या की थी। घटना को अंजाम देने बाद आरोपियों ने रास्ते मे रुक कर पैसो का बंटवारा किया था। पुलिस ने इस मामले में 4 बालक और 1 आरोपी को गिरफ्त्तार किया है।

रायगढ़ के लैलूंगा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं व्यापारी मदन मित्तल (50) और उनकी पत्नी अंजू देवी (54) के शव 3 दिन पहले कमरे में मिले थे। उनके हत्याकांड की खबर तब लगी जब अगले दिन जब उनका बेटा रोहित और बहू ऋचा सोकर उठे। खबर फैलते ही इलाके में हंड़कंप मच गया था। पुलिस की जांच में पता चला कि आरोपी पीछे के दरवाजे के ऊपर लगी खिड़की को तोड़कर अंदर घुसे थे। घटना की सूचना मिलते ही एसपी, एडशिनल एसपी, एसडीओपी धरमजयगढ़, धरमजयगढ़ अनुविभाग के सभी थाना, चौकी प्रभारी, थाना प्रभारी चक्रधरनगर, फारेंसिक व सायबर टीम, ट्रेकर डॉग मौके पर पहुंचे और जांच में जुट गये। घटना की गंभीरता को लेकर दोपहर सड़क मार्ग से रेंज आईजीपी रतनलाल डांगी भी घटनास्थल पहुंचे।

मामले की गम्भीरता को देखते हुए एसपी अभिषेक मीना एवं एडशिनल एसपी लखन पटले एवं एसडीओपी धरमजयगढ़ दीपक मिश्रा थाना लैलूंगा में कैम्प किये। पुलिस की टीमें चोरी के साथ आपसी रंजिश व कई पहलुओं को दृष्टिगत रखते हुये जांच में आगे बढ़ रही थी। सायबर की टीम संदिग्ध दर्जनों व्यक्तियों के मोबाइल नम्बर एवं सैकड़ों सीसीटीवी फुटेज की जांच कर महत्वपूर्ण जानकारियों एसपी अभिषेक मीना को उपलब्ध कराया जा रहा था। इसी दौरान साइबर सेल की टीम को एक फुटेज में सांई पेट्रोल पम्प के पास 22 सितंबर के रात्रि 3-4 लड़कों का मूव्मेंट दिखा जो मित्तल निवास के पीछे वाले रोड़ से होकर चखना सेंटर की तरफ गये और कुछ देर बाद उसी पीछे वाले रास्ते पर जो हत्या के घटनास्थल की ओर जाता है, जाते हुए दिखाई दिये। जिसके बाद पुलिस टीम चखना सेंटर के मालिक अर्जुन साहू निवासी रूडेकेला को सम्पर्क कर वहां का फुटेज देखा गया जिसमें 03 लड़के चोरी करते दिखाई दे रहे हैं। चखना सेंटर के मालिक के रिपोर्ट पर अप.क्र. 281/2021 धारा 457,380 IPC कायम किया गया। पुलिस टीम तत्काल संदिग्धों की पतासाजी कर तीन नाबालिग बालकों को हिरासत में लिया गया। चखना सेंटर के मालिक अर्जुन साहू ने बताया कि दुकान का एलवेस्टर तोड़कर अज्ञात आरोपियों द्वारा दुकान से गुटखा, सिगरेट, कोल्ड ड्रिंबक्स बॉटल व कुछ नकदी चोरी कर ले गये हैं। पुलिस टीम द्वारा हिरासत में लिए गये संदिग्ध बालकों से पूछताछ में चखना सेंटर में चोरी की वारदात कबूल किये, मित्तल निवास के पीछे एक स्थान पर ढेर सारे गुटखा के पाऊच रैपर के संबंध में कड़ी पूछताछ करने पर नाबालिगों द्वारा चखना सेंटर में चोरी के साथ निर्माणाधीन मकान के पास के मकान (मित्तल निवास) में दो लोगों की हत्या कर चोरी करना स्वीकार किया। विधि के साथ संघर्षरत बालकों सहित 06 लड़कों द्वारा घटना को अंजाम देना बताने पर पुलिस की टीमें अलग-अलग स्थानों पर दबिश देकर आरोपी अक्षय प्रधान व चार नाबालिग बालकों को अभिरक्षा में लिया गया, जिसके बाद इस अंधे हत्याकांड का खुलासा हुआ ।

जांच टीम को संदीप उर्फ कोंदा, अक्षय प्रधान उर्फ मुंडू और 04 नाबालिग बालक बताया कि रात को लैलूंगा जाकर चोरी करने का प्लान बनाया। आरोपियों के प्लान के अनुसार तीन लड़के जो पहले लैलूंगा पहुंचे थे सांई पेट्रोल पम्प के पास चखना दुकान में चोरी किये और वहां से गुटखा, सिगरेट, कोल्ड ड्रिंक आदि लेकर सरस्वती मंदिर के पीछे पहुंचे। यहां इन्हें उनके तीन और साथी अक्षय प्रधान, संदीप उर्फ कोंदा व एक बालक मिला। सभी एक साथ आसपास मकानों को झांके और निर्माणाधीन मकान के पास वाले मकान (मदन मित्तल का मकान) में बांस के सहारे ऊपर रोशनदान तक दो लड़के रोशनदान तक पहुंचे। आरीपत्ती (ब्लेड) से रोशनदान को काटकर दो लड़के अंदर घुसे और दरवाजा खोला। तब उनके बाकी साथी भी अंदर घुसे। एक कमरे की लाइट जल रही थी और एक कमरे के पलंग में एक महिला और पुरूष सोये थे। आलमारी खोलकर बैग निकाला इतने में सोया व्यक्ति जाग गया तो 06 लड़के महिला का तकिया से व पुरूष का गला दबाकर हत्या कर दिये। घटना के बाद बैग में रखे रूपये लेकर दरवाजे के रास्ते भाग निकले। जाते समय रास्ते में पहले एक स्थान पर सभी रूके। बैग को संदीप उर्फ कोंदा पकड़ा था। संदीप अपने साथियों को क्रमश: 20 हजार, 19 हजार, 18 हजार, 14 हजार एवं एक को 09 हजार रूपये बांटा और बाकी रूपये बैग सहित अपने पास रखकर “बांकी रूपये बाद में बंटवारा कर लेंगे अभी कुछ दिन अलग-अलग जगह छिपे रहो” कहकर वहां से चले गए। इसके बाद सभी अपने घर पहुंचे और घर में बहानेबाजी कर इधर-उधर फरार हो गये। पुलिस टीम के हाथ आये 4 नाबालिग एंव आरोपी युवक अक्षय प्रधान ने बताया की बटवारे के रूपये से कपड़े, चप्पल खरीदे हैं, पुलिस टीम ने इनसे खर्च के बाद बचे हुये नकदी 80,000 रूपये, घटना में प्रयुक्त आरीपत्ती (ब्लेड), घटना के समय पहने कपड़ों को बरामद किया गया है। फरार आरोपी के पास बैग व कुछ नकदी होना इनके द्वारा बताया गया है। नाबालिग के साथ आरोपी अक्षय प्रधान उर्फ मुंडू पिता राम कुमार प्रधान उम्र 23 वर्ष निवासी थानाक्षेत्र लैलूंगा को हत्या सहित नकबजनी के अप.क्र. 279/2021 धारा 457, 380, 302 IPC एवं नकबजनी अप.क्र. 281/2021 धारा 457, 380 IPC में सक्षम न्यायालय पेश किया जा रहा है। फरार आरोपी की सरगर्मी से पतासाजी जारी है।

Author Profile

नीरजधर दीवान
नीरजधर दीवान
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments