उर्जा संरक्षण को संस्कार और स्वभाव बनाने की जरूरत, रतनपुर कालेज में ऊर्जा संरक्षण पर ब्याख्यान सम्पन्न

रतनपुर। शासकीय महामाया महाविद्यालय रतनपुर में आज़ दिनांक 14 दिसंबर को राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस के अवसर पर महाविद्यालय की आई क्यू ए सी और भौतिक विज्ञान विभाग के संयोजन में ऊर्जा संरक्षण पर व्याख्यान का आयोजन किया गया। क्रेडा, बिलासपुर कार्यालय के अधीक्षण अभियंता सी. एस.गोस्वामी के मुख्य आतिथ्य एवं प्राचार्य डॉ आर एस खेर की अध्यक्षता में आयोजित व्याख्यान के संयोजक प्रो.शिवशंकर पांडेय ने उर्जा संरक्षण को भावी पीढ़ी के लिए अति आवश्यक बताया। क्रेडा की सहायक अभियंता सना परवीन ने क्रेडा के माध्यम से किए जा रहे उर्जा संरक्षण के विविध प्रयासों की जानकारी देते हुए कहा कि उर्जा की बचत ही उर्जा का उत्पादन है। प्राचार्य एवं अध्यक्ष डॉ आर एस खेर ने युवाओं से आह्वान किया कि हम सभी को अनावश्यक बिजली का व्यय नहीं करना है। सी एस गोस्वामी ने उर्जा संरक्षण को संस्कार और स्वभाव बनाने का विद्यार्थियों से आग्रह किया। अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर प्राचार्य डॉ आर एस खेर जी ने सम्मानित किया।व्याख्यान में महाविद्यालय की वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ श्रीमती अजरा कुरैशी, डॉ श्रीमती श्रद्धा दुबे,प्रो. के. एस. पुसाम, डॉ अशोक लहरे, डॉ राजकुमार सचदेव,सुश्री अर्पणा गौतम,प्रो.देवलाल उइके,प्रो.सूरज नामदेव एवं अन्य प्राध्यापकों, छात्र छात्राओं की उपस्थिति रही। कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ राजेश राय, डॉ आनंद कौशिक, डॉ श्रीमती सीमा सिन्हा, श्रीमती शिल्पा यादव,प्रो राजेश्वर भार्गव ने महत्वपूर्ण योगदान दिया।अंत में उपस्थित समस्त जनों के प्रति आभार डॉ राजकुमार सचदेव ने किया।